LOADING ...

About

मोहल्ले, कसबे की गलियाँ..गाँव की मिटटी तलाशने की एक कोशिश...
ट्विटर https://twitter.com/Ajihaaan

ऐसे अपन इग्नोर कर सकते थे..फिर भी नन्हेंलोगन सब के लिए वैचारिक वीर्यवर्धन कर रहे हैं..

ये स्वेच्छिक सेवा निवृति मने वीआरएस कोई नई बात नहीं है..बहुत सारे राज्यों में पहले से है..टर्म्स एंड कंडीशन में प्रोविडेंट फंड..ग्रेचुईटी..लीव एनकैशमेंट या इन्सुरांस बेनिफिट कमोबेश वैसा ही रहता है जैसा सुपरएन्नुएशन या हिंदी में अधिवर्षिता पेंशन सा रहता है..( नहीं समझ में आये तो गूगल कर लीजियेगा..आलस आ रहा हो तो यही समझिये कि सामान्य अवधि मने ५८-६० वर्ष की आयु के बाद होने वाले रिटायर के बाद मिलनेवाली सुविधा..) टर्म्स एंड कंडीशन में एक और बेसिक क्लॉज़ होता है कि कम से कम पांच साल की सेवा दे चुका होगा और पांच साल ही बचा हो सेवा में योगदान के लिए..( संभवतः इसमें अलग अलग राज्यों या केंद्र के नॉर्म्स में कुछ डिफरेंस रहा हो..अपने को गूगल नहीं करने का....फिलहाल अगर बीएसएनएल में अगर कोई विवाद रहता तो उसके कर्मचारी संगठन अब तक अड़ंगा डाल चुके होते)

अब वैचारिक वीर्यवर्धन कैसे हुआ?

सरकारी कर्मचारिओं को किस्म किस्म के पेंशन मिलते हैं..अधिवर्षिता पेंशन मने सुपरएन्नुएशन तो रेगुलर रिटायर होनेवाले को मिला..जो वीआरएस सुने हैं वो सेवानिवृति पेंशन में आता है..तकनीकी शब्द है रिटायरिंग पेंशन..इसके अलावे और भी काइंड ऑफ़ पेंशन होते हैं..मसलन..इनवैलिड पेंशन..असमर्थता पेंशन...मने जो शारीरिक या मानसिक अक्षमता से सेवा में योगदान देने के काबिल न रहा हो..कंपनसेशन पेंशन..मने पद ही समाप्त हो गया हो और कर्मचारी को रेगुलर तनख्वाह देने का कोई औचित्य न बने..उदाहरण के लिए कल को डाककर्मचारियों को भी ऐसा पेंशन दिया जा सकता है..पहले सौ कर्मियों की जरूरत पड़ती थी अब एकाध दर्जन से ज्यादा की जरूरत ही नहीं है..एक होता है अनिवार्य सेवानिवृति..मने ऐसे कर्मियों को ज़बरदस्ती रिटायर करवा दिया जाता है जो एकदम से भ्रष्टाचार में लिप्त पाए गये हों या अक्षम्य लापरवाही में पकड़े गये हों..अब बताइए.ऐसे आपत्तिजनक अवस्था में पकडे जानेवालों के लिए भी पेंशन का प्रावधान है और आपलोग बिना होमवर्क किये वीआरएस पेंशन के शिखा और अधोशिखा में अंतर नहीं समझते..सीधे मोदी..गोदी..*दी.. दिस..दैट..आंय..अच्छा लगता है क्या?
इसके अलावा फैमिली पेंशन को आपलोग जानते ही होंगे..एक इंजरी पेंशन भी होता है..मने कार्यनिष्पादन करते हुए शारीरिक या मानसिक अपंगता होने पर दिया जाने वाला पेंशन.. मने कह रहे हैं..चेत जाइए..कल को इंटरव्यू यही सब पूछेगा..आपको उदाहरण के साथ जवाब देना पड़ेगा..नहीं तो लटकल ** के तरह ऐसे ही मुंह बनता रहेगा आपका..
623 likes / 33 comments

Top comments

Suresh Chand
Prashant Yadav
Rohit Agrawal Sitaramka
Abhay Tiwari